फसल की समस्या का समाधान

क्या आप भी टमाटर की खेती पहली  कर रहे है और आप के टमाटर  फट रहे है तो उपाय जाने :-                                        टमाटर फटने के बहुत से कारण हो सकते है बहुआ फल अनियमित व अव्यवस्थित सिंचाई … Read more

सोयाबीन के बीजों को बुवाई के पहले कई प्रकार के बीजोपचार के रोग होते है ,कौन का बीजोपचार करे जाने और आलू की कौन -कौन सी जातिया उपयक्त है जाने

सोयाबीन के बीजों को बुवाई के पहले कई प्रकार के बीजोपचार के रोग होते है ,कौन का बीजोपचार करे जाने :-                                                          सोयाबीन के बीजों पर कम से … Read more

सोयाबीन उत्पादन के बेहतर और जरूरी उपाय

सोयाबीन उत्पादन के बेहतर और जरूरी उपाय :- सोयाबीन फसल के लिए गहरी  काली  मिट्टी वाली जमीन सोयाबीन के लिए  सही मानी जाती है ,कृषि विशेषज्ञ  अनुसार तीन  साल में एक बार गहरी जुताई करनी  चाहिए और गर्मी में एक समान्य जुताई करना चाहिए , स्वाईलर  से  जुताई  करना  इसलिए  अच्छा रहता है,क्योंकि यह 12 … Read more

चने की प्रमुख बीमारीयो को कैसे रोके जाने

चने की  प्रमुख बीमारीयो को कैसे रोके जाने :-                                                                        उकठा रोग :- यह एक  मृदोढ़  व बीजोढ़ रोग हैं ,जो की फ्यूजेरियम ऑक्सीस्पोरम नामक फफूंद से होती है।  बीमारी के लक्षण :- इस फफूंद के  कवकजाल  पौधों … Read more

पाले से बचने के लिए फसलों को हल्की सिंचाई करें

पाले  से बचने के लिए फसलों को हल्की सिंचाई करें :– पाला पड़ने की संभावना होने पर  पाले से बाचव के लिए फसलों में हलकी सिचाई करें। अथवा थायो यूरिया की 500 ग्राम मात्रा का 1000 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करे और 8 – 10 किलो  सल्फर पाउडर प्रति एकड़ का  छिड़काव करे … Read more

फसलों को पाले से बाचव के लिए वैज्ञानिकों की सलाह

फसलों को पाले से बाचव के लिए वैज्ञानिकों की सलाह:- कृषि विज्ञान केन्द्र ,टीकमगढ  के वरिष्ठ वैज्ञानिक  एवं प्रमुख डॉ. बी. एस. किरार  के निर्देशन  में डॉ। आर.के प्रजापति,  डॉ.आई,डी. सिंह एवं जयसवाल छिगारहा के द्वारा काटी ,हसगोरा,एव नंदनपुर  जलवायु समउत्थानसील परियोजना अंगीकृत गावों में किसानो की फसलों का निरीक्षण किया एवं कृषि संबंथित तकनीकी … Read more

महूआ का तेल बनाने की विधि

महुआ एक बहु उपयोगी वृक्ष है, इसके ओषधिय गुणो की चर्चा आयुर्वेद में की गयी है,इसमें  शीतकारी  माना गया है ,जो पीत्त को नियंत्रित रकता है, महुआ  फूलों के ताजे  रस का उपयोग त्वचा ,सिरदर्द  और आँखों की बीमारियों में होता है, महुआ के फूल ,फल ,छाल आदि  का कई अन्य तरह की ओषधिय के रूप में … Read more

कैसे की जाती हे पान की खेती जाने!

 कैसे की जाती हे पान की खेती जाने –                                                         उत्तर भारत में पान की खेती हेतु कर्षण क्रियायें 15 जनवरी के बाद  होती है। पान की अच्छी खेती … Read more

मटर की खेती करने की जानकारी !

मटर की खेती करने की जानकारी –                                                       मटर की खेती प्रमुखतः मध्यप्रदेश में सिहोर, पन्ना दमोह, सागर, सतना, रायसेन, टीकमगढ़, दतिया, इंदौर , देवास, भोपाल ,उज्जैन,ग्वालियर, मण्डला जिलों में की जाती … Read more